भारत के सबसे अमीर व्यक्ति कौन है ?

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले है की आखिर भारत के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूची में कौन कौन से व्यक्ति शामिल है और इसके बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी देंगे।

दोस्तों आपके मन में अक्सर कहीं बार ऐसे सवाल तो जरूर आते होंगे कि आखिर हमारे भारत देश में सबसे अमीर व्यक्ति कौन है? और उनका जन्म से लेकर क्या बिज़नेस है?

bharat ke sabse amir vyakti kaun hai
इन सभी सवालों का जवाब के लिए आज मैं आपको बताने वाला हूँ की आखिर भारत के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूची में कौन – कौन आते है? और इनकी कमाई कितनी है? इसलिए इस लेख को अंत तक पढ़े ताकि आपको भी सबसे अमीर व्यक्तियों की सूची से संबधित सभी जानकारी प्राप्त हो सके।

भारत के सबसे अमीर व्यक्ति कौन है? | भारत के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूची
विषय सूची 
Top 10 Indian Richest Person 


1. मुकेश अंबानी
दोस्तों हमारी सूची के सबसे पहले जिस अमीर व्यक्ति का नाम आता है, उसका नाम है रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी। मुकेश अंबानी का जन्म 19 अप्रैल 1957 में यमन में हुआ था। उनके पिता का नाम धीरूभाई अंबानी और मां का नाम कोकिला बेन अंबानी है।

गुजरात के रहने वाले मुकेश अंबानी के पिता धीरू भाई अंबानी ने रिलायंस इंडस्ट्री की शुरुआत 8 मई वर्ष 1973 को की थी। धीरे-धीरे उनके पिता को इस क्षेत्र में कामयाबी और शोहरत मिलती चली गई और उनके बड़े पुत्र मुकेश अंबानी आज भारत के सबसे अमीर आदमी की लिस्ट में पहले नंबर पर है।

वर्ष 2002 में मुकेश अंबानी के पिता धीरुभाई अंबानी का निधन हो गया था, जिसके बाद उनकी कंपनी ‘रिलाइंस’ को उनके दोनों बेटों अनिल अंबानी और मुकेश अंबानी के बीच बांट दिया गया था। छोटा भाई मुकेश अंबानी इस क्षेत्र में असफल होते चले गये वहीं बड़ा भाई इस क्षेत्र में दिन रात अपनी मेहनत और लगन से कामयाबी की सीढ़ी चढ़ते चालें गये।

अगर मुकेश अंबानी के सम्पति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार मुकेश अंबानी के पास लगभग 88.8 बिलियन डॉलर की सम्पति हैं।

2. गौतम अदाणी
दोस्तों गौतम अदाणी का जन्म 24 जून 1962 को भारत देश के गुजरात राज्य के अहमदाबाद शहर में हुआ था। इनके पिता का नाम शांतिलाल अदानी था तथा इनकी माता का नाम शांताबेन अदानी था। गौतम अदाणी सात भाई – बहन थे और इनके पिता जी कपड़े का व्यापार किया करते थे।

उनके पिता चाहते थे की उनका बेटा गौतम उनके कारोबार में उनका हाथ बढ़ाये। लेकिन गौतम अदाणी को अपने पिता के कपड़ों के व्यापार में कोई भी दिलचस्पी नहीं थी और जब वह 19 वर्ष के हो गये थे, तब वह अपना सपने लेकर गुजरात को छोड़कर मुंबई चले गये थे और वो वहाँ पर वह एक डायमंड ट्रेडिंग कंपनी में काम करते थे।

धीरे – धीरे उन्होंने वहाँ काम सीखा और करीब एक साल बाद खुद की कंपनी ही खोल दी। अगर इनकी सम्पति की बात की जाएं तो गौतम अदाणी हमारी लिस्ट में दूसरे नंबर पर आते है और एक रिपोर्ट के अनुसार अदानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अदाणी की कुल संपत्ति 25.6 बिलियन डॉलर की हैं। 

3. शिव नाडार
शिव नाडार को भारत के प्रमुख उद्यमी एवं समाजसेवी के रूप में जाना जाता है। वे एचसीएल टेक्नॉलोजी के मालिक है। टेक्नोलॉजी क्षेत्र के बड़े दिग्गज और भारत देश के बड़े उद्योगपति शिव नाडार का जन्म 14 जुलाई 1945 को तमिलनाडु के एक छोटे से गाँव में हुआ था।

शिव नाडर को एक समाजसेवी के रूप में गिना जाता है क्योंकि समाज सेवा में उनका बहुत बड़ा योगदान रह चूका है और उन्होंने इस क्षेत्र में काफी सहयोग भी किया है। वर्ष 1968 तक शिव नाडार तमिलनाडु की एक डीसीएम कंपनी में काम करते थे। परंतु कुछ वर्ष काम करने के बाद आखिरकार वर्ष 1976 में उन्होंने अपने साथियों के साथ मिलकर खुद का एक एचसीएल इंटरप्राइज की स्थापना की और वर्ष 1991 आते – आते भारतीय बाजार में यह कंपनी एक नए रूप में टेक्नोलॉजी के साथ आई।

इस कंपनी में 100 कार्यालय है और हाल ही में इस कंपनी में 35 हजार से अधिक लोग काम करते है| शिव नाडर तमिलनाडु के एक सामान्य परिवार से आते थे। परंतु आज वह भारत के तीसरे सबसे अमीर व्यक्ति बन चुके है। अगर इनकी संपत्ति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी संपत्ति लगभग 20.5 बिलियन डॉलर हैं।

4. राधाकिशन दमानी
दोस्तों आपको हम बता दें की 67 साल के राधा कृष्णन दमानी डी मार्ट कंपनी के मालिक है। राधाकिशन दमानी का जन्म वर्ष 1954 में राजस्थान के बीकानेर जिले में एक मारवाड़ी परिवार में हुआ था। उनके पिताजी शिवकिशनजी दमानी भी स्टॉक मार्किट के जाने माने जानकार थे।

राधाकिशन को पढ़ाई में ज्यादा रूचि नहीं थी और उन्होंने बीच में ही कॉलेज छोड़ दिया। इसके बाद, श्री दमानी ने अपना बॉल बेयरिंग कारोबार शुरू किया। 32 साल की उम्र में उन्होंने अपने पिता के अचानक से निधन होने के कारण अपने इस व्यवसाय को बिच में ही छोड़ दिया और फिर वे अपने भाई के साथ दलाल स्ट्रीट पर स्टॉकब्रोकर के रूप में शामिल हो गए।

इसके बाद इन्होने पीछे नहीं देखा और जिंदगी कि रेस में आगे ही बढ़ते चले गये। अगर इनकी संपत्ति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी संपत्ति लगभग 15.5 बिलियन डॉलर हैं।

5. हिंदुजा परिवार
दोस्तों हम आपकी जानकारी के लिए बता दें की हिंदुजा समूह के मालिक श्रीचंद हिंदुजा और उनके भाई गोपीचंद हिंदुजा है, जिन्हें हिंदुजा ब्रदर्स के नाम से भी जाना जाता है। इसकी स्थापना इनके पिता परमानंद दीपचंद हिंदुजा ने वर्ष 1914 में की थी। जिसकी शुरुआत भारत के मुंबई शहर में हुई थी।

आपको हम बता दें की हिंदुजा समूह ने वर्ष 1987 में भारत के दूसरे सबसे बड़े एचसीवी निर्माता अशोक लेलैंड को खरीद लिया था। हिंदुजा परिवार का कारोबार पुरे भारत देश में फैला हुआ है। इन परिवार की मेहनत और लगन से आज यें भारत के पांचवें सबसे अमीर व्यतियों की लिस्ट में है।

कुछ समय पहले सोशल मीडिया के द्वारा खबर आयी थी की हिन्दुजा परिवार के बीच संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा है। लेकिन अगर हिंदुजा परिवार संपत्ति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी संपत्ति लगभग 12.9 बिलियन डॉलर हैं।

6. डॉ. एस. पूनावाला
छठे नंबर पर पूनावाला समूह, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मालिक साइरस एस. पूनावाला का नाम आता है। डॉ. एस. पूनावाला जन्म वर्ष 1941 को एक भारतीय पारसी व्यवसायी हुआ था, जिन्हें भारत का वैक्सीन किंग भी कहा जाता है। वर्ष 2010 में इनकी पत्नी का स्वर्गवास हो गया था और वह टूट से गये थे।

लेकिन डॉ. एस. पूनावाला ने हर नहीं मानी और अपनी पत्नी के नाम से एक फाउंडेशन की स्थापना की, जिसमें गरीब लोगों को मुफ्त में टिकाकरण और मुफ्त में दवाईयाँ मोहिया कराई जाती है। अगर इनकी संपत्ति की बात की जाए तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी संपत्ति लगभग 11.5 बिलियन डॉलर हैं।

7. पालोनजी मिस्त्री
हमारी लिस्ट में सातवें नंबर परपालोनजी समूह के मालिक पालोनजी मिस्त्री आते है। पालोनजी मिस्त्री का जन्म वर्ष 1929 में हुआ था। ज्यादातर मीडिया इनका नाम पब्लिश नहीं करती और ना ही आपने इनके बारे में ज्यादा कहीं सुना हो। लेकिन यें बिज़नेस में बिच एक चर्चित चेहरा है।

आपको हम बता दें की पालोनजी मिस्त्री ने वर्ष 2003 में आयरलैंड की नागरिकता पाने के लिए भारत की नागरिकता छोड़ दी थी। लेकिन आज भी पालोनजी मिस्त्री अपने मुंबई वाले घर मालाबार हिल्स पर बने आलीशान घर में रहते है।

इनका देश और विदेश में काफी करोबार हैं। अगर इनकी संपत्ति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी कुल संपत्ति लगभग 11.3 बिलियन डॉलर हैं।

8. उदय कोटक
आठवे नंबर पर कोटक महिंद्रा बैंक के मालिक उदय कोटक का नाम आता है। उदय कोटक का जन्म 15 मार्च वर्ष 1959 को मुंबई के महाराष्ट्र जिले में हुआ था। उनके पिता का नाम सुरेश अमृतलाल कोटक और माता का नाम इंदिरा कोटक था। अपनी मेहनत और लगन से उदय कोटक ने कोटक महिंद्रा बैंक को भारत का दूसरा सबसे बड़ा निजी बैंक बना दिया, जो काफी हद तक सफल भी रहा है।

आज के समय में कोटक महिंद्रा बैंक की 1250 शाखाएँ पूरे भारत में फैली हुई हैं। अगर इनकी संपत्ति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी कुल संपत्ति लगभग 11.2 बिलियन डॉलर हैं।

9. गोदरेज परिवार
नौवें नंबर पर गोदरेज के संस्थापक गोदरेज परिवार आता है, जिनकी संपत्ति 11 बिलियन डॉलर हैं। आदि गोदरेज का जन्म अप्रैल वर्ष 1942 को मुंबई में हुआ था। इन्होने अपनी पढ़ाई मुंबई से ही की थी और यहीं से इन्होने अपनी ग्रेजुएशन पूरी की थी।

ग्रेजुएशन पूरी होने के बाद एम.बी.ए करने के लिए आदि गोदरेज विदेश चले गये थे। आदि गोदरेज को बिज़नेस विरासत में मिली है, लेकिन इनकी मेहनत और लगन से इन्होने विरासत में मिले इस बिज़नेस को आगे बढ़ाया और आज ये भारत के नौवें सबसे अमीर व्यक्ति की लिस्ट में आते हैं।

10. लक्ष्मी मित्तल
हमारी लिस्ट में दसवें नंबर पर जिस अमीर व्यक्ति का नाम आता है उनका नाम है लक्ष्मी मित्तल, जो अर्सलोरमित्तल के संस्थापक है। लक्ष्मी मित्तल का जन्म 2 सितंबर वर्ष 1950 को राजस्थान के चुरू जिले की राजगढ़ तहसील में हुआ था।

लक्ष्मी मित्तल एक भारतीय उद्योगपति है साथ ही यह दुनिया के सबसे बड़े स्टील उत्पादक कंपनी आर्सेलर मित्तल के सीईओ और चेयरमैन भी हैं। अगर इनकी संपत्ति की बात की जाएं तो एक रिपोर्ट के अनुसार इनकी कुल संपत्ति लगभग 10.4 बिलियन डॉलर हैं।

निष्कर्ष
हमने अपने आज के इस लेख में आप सभी लोगों को भारत के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूची से संबंधित विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान की हुई है और हमें उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई आज कि यह महत्वपूर्ण जानकारी आप लोगों के लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल और यूज़फुल साबित हुई होगी।

अगर आपको हमारी आज की यह महत्वपूर्ण जानकारी पसंद आई हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले ताकि आप जैसे ही अन्य लोगों को भी इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में आप के जरिए पता चल सके एवं उन्हें ऐसे ही महत्वपूर्ण लेख पढ़ने के लिए कहीं और बार-बार भटकने की बिल्कुल भी आवश्यकता ना हो।

अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख से संबंधित कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हो। हम आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया का जवाब शीघ्र से शीघ्र देने का पूरा प्रयास करेंगे और हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को अंतिम तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आपका कीमती समय शुभ हो। 

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने